Thursday, April 25, 2024
Google search engine
HomeUncategorizedखारघर प्रकरण की न्यायालयीन जांच करवायी जाए : कांग्रेस विधायक अभिजीत वंजारी...

खारघर प्रकरण की न्यायालयीन जांच करवायी जाए : कांग्रेस विधायक अभिजीत वंजारी की मांग

गोंदिया : राज्य के खारघर में विगत 16 अप्रैल को हुए अप्पासाहेब धर्माधिकारी को महाराष्ट्र भूषण पुरस्कार वितरण समारोह के दौरान भीषण गर्मी के चलते अनेक लोगों की तबीयत बिगड़ गई। जिसमें से 14 लोगों की उष्माघात से मौत हो गई। यह घटना राज्य सरकार की लापरवाही की वजह से घटी है। इसलिए इस प्रकरण की उच्च न्यायालय के रिटायर्ड जज के माध्यम से न्यायालयीन जांच करवायी जाए तथा संबंधित दोषी पाए जानेवालों के खिलाफ कानून के अनुसार सख्त कार्रवाई करने की मांग कांग्रेस विधायक अभिजीत वंजारी ने सोमवार, 24 अप्रैल को शासकीय विश्रामगृह में आयोजित पत्र परिषद में की। इस समय पत्र परिषद में जिला कांग्रेस अध्यक्ष दिलीप बंसोड़, प्रदेश कांग्रेस सचिव अमर वराडे एवं पी.जी. कटरे, अशोक गुप्ता, जिप सदस्य वंदना काले, बाबा बागड़े उपस्थित थे। पत्र परिषद में विधायक वंजारी ने कहा कि इस समारोह में उपस्थित 20 लाख लोगों की उपस्थिति के मद्देनजर उनकी सुविधाओं का ध्यान नहीं रखा गया, बल्कि खुले मैदान में कड़ी धूप में समारोह का आयोजन किया गया। जहां न पीने के पानी की व्यवस्था थी और न ही भीषण गर्मी से बचाव के लिए कोई व्यवस्था की गई थी। उन्होंने कहा कि यह समारोह राज्य सरकार द्वारा आयोजित किया गया था। इसमें केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस स्वयं उपस्थित थे। इस घटना में मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख रुपए का मुआवजा देने की घोषणा मात्र से सरकार अपनी जिम्मेदारी से बच नहीं सकती। उन्होंने कहा कि इस समारोह में नेताओं के लिए वातानुकुलित मंच बनाया गया। जबकि आम नागरिकों को कड़ी धूप में खुले में बैठना पड़ा। यहीं नहीं वातानुकुलित स्टेज के पीछे ही उपस्थित विशेष लोगों के लिए भोजन की व्यवस्था की गई। लेकिन आम नागरिकों की सुविधा का कोई ख्याल नहीं रखा गया। जिसके कारण 500 के लगभग लोग गर्मी एवं भगदड़ से प्रभावित हुए और 14 लोगों की मौत हो गई। घटना के बावजूद अतिथि वातानुकुलित शेड में स्वादिष्ट भोजन का स्वाद लेते नजर आए। कांग्रेस पार्टी राज्यपाल से मांग करती है कि इस शर्मनाक घटना के लिए दोषी आयोजकों के खिलाफ सदोष मनुष्यवध का मामला दर्ज किया जाना चाहिए। हम सरकार से मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे सहित सारी सरकार के इस्तीफे के साथ इस मामले की न्यायालयीन जांच कराने की मांग करते है। उन्होंने कहा कि केंद्र एवं राज्यों में कांग्रेस की सरकारें रहने के दौरान छोटी सी भी घटना होने पर आज के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस कड़ी टीका-टिप्पणी करते थे और आज इतनी बड़ी घटना के बावजूद वे मौन है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments