Friday, June 14, 2024
Google search engine
HomeUncategorizedनाटक के माध्यम से समाज को बदलना जरूरी : डॉ. सुगत चंद्रिकापुरे

नाटक के माध्यम से समाज को बदलना जरूरी : डॉ. सुगत चंद्रिकापुरे

गोंदिया : नाटक सामाजिक प्रबोधन का एक प्रभावी माध्यम है। हमें नाटक के माध्यम से कई अच्छी बातों को स्वीकार करना चाहिए। इसके साथ ही कलाकार नाटक के माध्यम से समाज में क्या चल रहा है उसकी हकीकत भी सामने लाने की कोशिश करते हैं. इस माध्यम से मनोरंजन भी किया जाता है, लेकिन इस माध्यम से सामाजिक परिवर्तन कैसे लाया जा सकता है, इस पर ध्यान देना जरूरी है। उक्त विचार डा. सुगत चंद्रिकापुरे ने व्यक्त किये.
वे  महाशिवरात्रि के अवसर पर तिड़का में आयोजित नाटक “रूसला पदर मायेचा ” के उद्घाटन समारोह में बोल रहे थे। उन्होंने आगे कहा कि गांव में कार्यक्रमों और नाटकों के माध्यम से नागरिक एक साथ आते हैं और विचारों का आदान-प्रदान करते हैं. लेकिन अच्छाइयों को स्वीकार करने और समाज तक पहुंचाने का काम हमे करना चाहिए। नाटक का उद्घाटन डॉ. अशोक लंजे ने किया। इसकी अध्यक्षता सुगत चंद्रिकापुरे ने की. इस अवसर पर सरपंच नितेश गुरनुले, उपसरपंच दुलीचंद तागड़े, हरिश्चंद्र शेंडे, लीलाधर कोटवार, पूर्व उपसरपंच हरिश्चंद्र गुरनुले, ग्राम पंचायत सदस्य सीताराम मौजे, राधेश्याम कोटवार, पत्रकार बिरला गणवीर रोजगार सेवक नरेंद्र गावतुरे, ग्राम पंचायत सदस्य हंसराज सोनुले, रीनाताई मोहुरले, नीलूबाई गावतुरे, मुक्ताबाई भोयर, निशाबाई पेटकुले आदि गणमान्य लोग उपस्थित थे। इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में नागरिक उपस्थित थे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments