Tuesday, May 21, 2024
Google search engine
HomeUncategorizedशहर की पार्किंग समस्या का समाधान कब?

शहर की पार्किंग समस्या का समाधान कब?

नागरिक परेशान : व्यापारियों की हिंसा, भर रोड पर अतिक्रमण
गोंदिया : सबसे बड़ी वाहन पार्किंग की समस्या गोंदिया शहर के मुख्य बाजार क्षेत्र में है और पुलिस द्वारा समस्या के समाधान के लिए किए गए सभी प्रयास विफल हो रहे हैं. तो पार्किंग की कुछ ऐसी ही तस्वीर हमें देखने को मिल रही है। कुछ महीने पहले, शहर में पुलिस ने स्ट्रीट पार्किंग के लिए ऑड-ईवन फॉर्मूले की घोषणा की थी। बोर्ड भी लगाए गए थे। हालांकि देखने में आ रहा है कि शहर के व्यापारी इस फॉर्मूले को झुठला रहे हैं। इसलिए आम नागरिकों को वाहन पार्किंग के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ती है।
गोंदिया शहर जिले का केंद्रीय शहर है। जिले के नागरिक इस शहर में या तो व्यापार की दृष्टि से आते हैं या सरकारी कार्य की दृष्टि से। इसी तरह बड़ी संख्या में छात्र शिक्षा के लिए आते हैं। दूसरी तरफ शहर की आबादी भी तेजी से बढ़ रही है। कॉलोनी भी उसी हिसाब से बढ़ रही है। वाहनों की संख्या भी बढ़ी है। गोंदिया शहर का मुख्य बाजार भी बढ़ रहा है। लेकिन, बाजार की सड़कें दिन व दिन संकरी होती जा रही हैं। व्यापारी सामान रखकर सड़कों पर अतिक्रमण कर रहे हैं। परिणामस्वरूप वाहन पार्किंग के लिए ग्राहकों या नागरिकों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। इतना ही नहीं सड़क पर खड़े वाहनों के कारण बाजार की लगभग सभी सड़कों को जाम का सामना करना पड़ रहा है. इसलिए आए दिन पार्किंग और ट्रैफिक की समस्या को लेकर विवाद होता रहता है। हालांकि जगह-जगह शहर के ट्रैफिक को नियंत्रित करने की जिम्मेदारी पुलिस की होती है, लेकिन ये समस्याएं बनी रहती हैं। शहर में पार्किंग व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त करने के लिए कुछ महीने पहले पुलिस की ओर से कदम उठाया गया था। शहर की सड़कों पर उचित पार्किंग के लिए ऑड-ईवन फॉर्मूले की भी घोषणा की गई। सभी मार्गों को तिथिवार पट्टिकाओं से चिन्हित किया गया। हालांकि एक माह के अंदर ही पुलिस के इस फॉर्मूले को भी स्थानीय व्यापारियों व नागरिकों ने विफल कर दिया. आजकल शहर में पार्किंग की समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा है। वहीं दूसरी ओर शहर की यातायात व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए पुलिस को भी काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। तो शहर में पार्किंग की समस्या के लिए कौन जिम्मेदार है? ऐसा सवाल उठाया जा रहा है.

नप प्रशासन की उपेक्षा
गोंदिया नगर परिषद का प्रशासन हमेशा चर्चा में रहता है। शहर में अतिक्रमण, गंदगी, पार्किंग, कूड़ा निस्तारण, पेयजल की समस्या, सड़कों की खराब स्थिति आदि समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इसके अलावा नप कार्यालय के कामकाज पर भी चर्चा हुई। इन समस्याओं के समाधान के लिए नगर परिषद प्रशासन द्वारा कोई कदम नहीं उठाया जा रहा है। कुछ दिन पहले कांग्रेस पार्टी ने शहर की समस्याओं को लेकर टॉक शो के जरिए नप प्रशासन को किनारे कर दिया था. समस्या का समाधान नहीं हुआ तो बड़ा धरना भी दिया। हालांकि हमेशा देखने में आता है कि नप प्रशासन कोई सुध नहीं ले रहा है।

सड़क कारोबारियों के कब्जे में है
शहर में गोरेलाल चौक, गांधी प्रतिमा, नेहरू चौक, दुर्गा चौक, चांदनी चौक, रेलवे स्टेशन चौक, बजाज चौक, अंबेडकर चौक, भवानी चौक, यादव चौक, शंकर चौक, सिविल लाइन, हनुमान चौक, इंगले चौक में बाजार देखे जा सकते हैं . इस क्षेत्र की मुख्य सड़क पर साफ तौर पर ऐसा लगने लगा है मानो उस पर व्यापारियों ने कब्जा कर लिया हो। दुकान के सामने व्यापारियों के वाहन खड़े रहते हैं। जब कोई व्यक्ति दुकान के सामने अपना वाहन खड़ा करता है तो व्यापारी उस व्यक्ति से मारपीट करते हैं। यही वजह है कि शहर की पार्किंग व्यवस्था चरमरा गई है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments