Tuesday, May 21, 2024
Google search engine
HomeUncategorizedजनगणना होनी चाहिये और मराठा का समावेश के विरोध में चौथे दिन...

जनगणना होनी चाहिये और मराठा का समावेश के विरोध में चौथे दिन भी डटे रहे ओबीसी संघटना के पदाधिकारी

इंजि राजीव ठकरेले ने चौथे दिन संभाला मोर्चा

गोंदिया : ओबीसी समाज की जनगणना होनी चाहिये ओबीसी समाज के विद्यार्थी के लिए हॉस्टेल्स का निर्माण होना चाहिये ओबीसी समाज के कल्याण हेतू समाज कल्याण विभाग मे कार्यालय होना चाहिये तथा ओबीसी के आरक्षण मे हो रही घुसकोरी को रोकने हेतू ओबीसी समाज द्वारा 18 सप्टेंबर को जन आक्रोश महाआंदोलन किया था। लेकिन सरकार रूख को देखते हुए आंदोलन को जारी रखने हेतु तालुका निहायत श्रंखलाद्ध उपोषण करने का निर्णय लिया गया। दि. २० सप्टेंबर से उपोषण की शुरूआत की गई जिसमें आज चौथे दिन की जव्वाबदारी ओबीसी संघर्ष कृती समिती के तालुका प्रभारी इंजि राजीव ठकरेले को दि गई थी। ठकरेले ने कहा की केंद्र सरकार तथा महाराष्ट्र की सरकार दोनो भी ओबीसी समाज के साथ मे भेदभाव कर रही है। एक तरफ केंद्र सरकार महिला आरक्षण बिल मे ओबीसी समाज की महिलाओ के लिए कोई आरक्षण नही दे रही हैं, ओबीसी की जनगणना नही करा रही है दुसरी तरफ महाराष्ट्र की सरकार ओबीसी के आरक्षण मे मराठाओ को गुसा कर उनके संविधानिक अधिकार को खत्म कर रही है और वैसे ही ओबीसी समाज के अधिकार के लिए आमरण उपोषण पर बैठे हुए चंद्रपूर के जिल्हाध्यक्ष राजेंद्र टोंगे इनकी तब्येत खराब होने के बावजूद भी सरकार संज्ञान नही ले रही हैं। जब की मराठा समाज के आंदोलन कर्ताओं की बार बार संज्ञान लेकर महत्त्व दिया जाता हैं। जीवन मरण के ती परिस्थिती से गुजर रहे टोंगे का संज्ञान ना लेकर ओबीसी समाज को आहत करने का काम कर रहीं हैं।

आज उपोषण करता के रूप मे सभापती सोनू कुथे महासचिव ओबीसी कृती समिती गोंदिया, इंजि राजीव ठकरेले, प्रभारी गोंदिया तालुका, संतोष ठाकूर, राज मस्करे, इंद्रकांत लिल्हारे, गणेश भेलावे, पितंम भेलावे, प्रेमलाल साठवणे, संघर्ष हुकरे, अतुल कावडे, मंथन सिंग चव्हाण, समीप पटेल, पंकज चौधरी, शिवलाल नेवारे, महेश मस्करे, तीर्थराज बघेले, देवेंद्र दमाहे, प्रमोद गुडदे, राजू येडे, सुनील पटले, पंकज दमाहे, संतोष नागपुरे, कमल किशोर लिल्हारे, खेमेंद्र कटरे, कैलास भेलावे, लीलाधर गिरेपुंजे, पिंटू बनकर, संजय बिसेन, अशोक चेन्ने, भरत पाटील, अशोक सुरजजोशी, नंदकिशोर बिरनवार, रामेश्वर लिल्हारे, उमाप्रसाद उपवंशी, हंषराज गएगये, प्रशांत लिल्हारे, ओमप्रकाश मचाडे, प्रविन धामडे, पृथ्वीराज दसरे, निरज नागपुरे आदि कार्यकर्ता उपस्थित थे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments