Friday, June 14, 2024
Google search engine
HomeUncategorizedआपदा प्रबंधन की तिजोरी खाली

आपदा प्रबंधन की तिजोरी खाली

आपदाग्रस्तो को मुआवजे का इंतजारपिछले वर्ष 104 गांवों में अतिवृष्टि से एक हजार मकानो को हुआ था नुकसान
गोंदिया : प्राकृतिक आपदा ऐसी घटना है जो कभी भी घट सकती है। ऐसी घटनाओं में कई परिवार बर्बाद हो जाते है। ऐसे आफत के समय में हमेशा शासन सतर्क होकर तत्काल आपदाग्रस्तो को मदद पहुंचाता है। लेकिन गोंदिया जिले के आपदा प्रबंधन विभाग की तिजोरी ही खाली होने से आपदाग्रस्तो को एक वर्ष से अधिक का समय बीत जाने के बावजुद भी मदद नहीं पहुंच पाई है। बताया गया है कि सितंबर-अक्टूबर 2022 में हुई अतिवृष्टि से जिले के 104 गांवों के लगभग 1 हजार मकानो को नुकसान पहुंचा था। जिनमे से कुछ परिवार बेघर हो गए। आज भी उन्हें मुआवजा नहीं मिला है और ना ही जिले के किसी जनप्रतिनिधियो ने इस विषय को लेकर शासन के समक्ष रखा है।
बता दें कि गोंदिया जिले में वर्ष 2022 के सितंबर एवं अक्टूबर माह में अतिवृष्टि हुई। जिसमे सैकड़ों मकान धराशायी हो गए वहीं पशुधनो के तबेले भी ध्वस्त हो गए। राजस्व विभाग ने नुकसान का सर्वे किया तो रिपोर्ट आई की जिले के 104 गांवों में 991 मकान व तबेलो को नुकसान पहुंचा है। जिनमें से 25 मकान पुरी तरह से ध्वस्त होकर परिवार बेघर हो गए और 966 मकान व पशुधनो के तबेलो को नुकसान पहुंचा। इस आपदा से 1 करोड़ 94 लाख 83 हजार 700 रूपए का नुकसान पहुंचा। जिसकी मांग जिला आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से शासन से की गई लेकिन अभी तक मांगी गई मदद की राशि गोंदिया जिला प्रशासन को नहीं पहुंच पाई है। आपदा के समय में भी शासन आपदाग्रस्तो को मदद कराने में गंभीरता क्यों नहीं दिखा रहा है ऐसा सवाल भी आपदाग्रस्तो द्वारा किया जा रहा है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments