Wednesday, May 22, 2024
Google search engine
HomeUncategorizedकड़ी धूप में परीक्षार्थियों को 13 कि.मी. चलना पड़ेगा पैदल

कड़ी धूप में परीक्षार्थियों को 13 कि.मी. चलना पड़ेगा पैदल

ओपन यूनिवर्सिटी परीक्षा : कम प्रवेश वाले सालेकसा में केंद्र
गोंदिया : यशवंतराव चव्हाण ओपन यूनिवर्सिटी की परीक्षा 29 मई से शुरू होगी. सालेकसा तहसील में चार अध्ययन केंद्र हैं. सालेकसा में छात्रों की संख्या सबसे कम है. लेकिन 13 कि.मी. दूर स्थित साखरीटोला, झालिया और कावराबांध का परीक्षा केंद्र सालेकसा में दिया गया है. ऐसे में परीक्षार्थियों को भीषण गर्मी और संचार के साधनों की कमी का सामना करना पड़ेंगा. परिणामस्वरूप परीक्षा केंद्र उसी स्थान पर प्रदान किया जाए जहां अध्ययन केंद्र है, ऐसी मांग परीक्षार्थियों ने की है.
यशवंतराव चव्हाण ओपन यूनिवर्सिटी के सालेकसा तहसील में चार अध्ययन केंद्र हैं. जिसमें गवराबाई कला महाविद्यालय झालिया, जी. के. कॉलेज कावराबांध, साखरीटोला कॉलेज साखरीटोला और एम. बी. पटेल कॉलेज सालेकसा शामिल है. झालिया अध्ययन केंद्र में 1481, कावराबांध में 427, साखरीटोला में 392 और एम. बी. पटेल कॉलेज सालेकसा में 200 छात्र हैं. ओपन यूनिवर्सिटी की परीक्षाएं 29 मई से शुरू होंगी. सालेकसा झालिया, कावराबांध, साखरीटोला से 13 किलोमीटर दूर है. इसी तरह परीक्षार्थियों की संख्या ज्यादा है. सालेकसा के एम. बी. पटेल कॉलेज में इतने परीक्षार्थियों को बैठाने की व्यवस्था नहीं है. इसी तरह वर्तमान में गर्मी का पारा 42 डिग्री के पार पहुंच गया है. आने वाले दिनों में तापमान में फिर से बढ़ोतरी होने की संभावना है. दूर-दूर से विद्यार्थी अध्ययन केंद्र आ रहे हैं. देवरी तहसील के चिचगढ़ के छात्र पढ़ रहे हैं. सालेकसा आने के लिए यात्रा के पर्याप्त साधन नहीं है. ऐसे में वे परीक्षा स्थल पर समय पर नहीं पहुंच पाएंगे. परीक्षा के बाद फिर से घर जाने में देर हो जाएगी. ऐसे में विद्यार्थियों की मेहनत, समय और पैसा भी बर्बाद होगा. इसलिए सालेकसा की जगह सभी अध्ययन केंद्र पर परीक्षा केंद्र बनवाए जाए, ऐसी मांग परिक्षार्थियों ने की है.

डेढ़ किलोमीटर पर केंद्र
सालेकसा के एम. बी. पटेल कॉलेज में परीक्षा केंद्र बनाया गया है. एम.बी. पटेल कॉलेज सालेकसा बस स्टैंड और रेलवे स्थानक से डेढ़ किलोमीटर की दूरी पर है. ऐसे में छात्रों को तीन किलोमीटर का सफर तपती धूप में करना पड़ेगा. साथ ही नदी पर पुल बनने से साखरीटोला से आने वाले छात्रों को और आमगांव से आने वालों को सड़क का काम नहीं होने से परेशानी होगी.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments