Friday, July 19, 2024
Google search engine
HomeUncategorizedआखिरकार चार साल बाद 'आमची मुलगी' वेबसाइट शुरू

आखिरकार चार साल बाद ‘आमची मुलगी’ वेबसाइट शुरू

गोंदिया. राज्य में भ्रूण लिंग निदान, लिंग अनुपात में वृद्धि और कन्या भ्रूण हत्या को रोकने के लिए शिकायतें दर्ज करने के लिए ‘आमची मुलगी’ नामक एक वेबसाइट शुरू की गई है. यह वेबसाइट पिछले चार साल से बंद थी. 15 मार्च को इस वेबसाइट को दोबारा शुरू किया गया. जिससे गर्भधारण पूर्व और प्रसवपूर्व निदान (लिंग चयन की रोकथाम) अधिनियम 1994 संशोधित अधिनियम 2003 (पीसीपीएनडीटी व एमटीपी) के प्रभावी क्रियान्वयन में मदद मिलेगी.
2011 में संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष (यूएनएफपीए) ने सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से लिंग भेदभाव पर रिपोर्ट करने के लिए ‘आमची मुलगी’ नामक एक वेबसाइट लॉन्च की. चार साल पहले ‘आमची मुलगी’ वेबसाइट तकनीकी और वित्तीय कारणों से बंद हो गई थी. सरकार ने ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान को बड़े पैमाने पर चलाया. कन्या भ्रूण हत्या को रोकने के लिए विभिन्न स्तरों पर प्रयास किए जा रहे हैं. वहीं, अनाधिकृत प्रसवपूर्व लिंग निदान की शिकायत के लिए उपलब्ध कराई गई वेबसाइट ‘आमची मुलगी’ का बंद होना सरकार के उद्देश्य पर सवाल खड़ा करता है. परिणामस्वरूप शिकायत की रिपोर्ट कहां करें? ऐसा सवाल भी उठाया गया. पीसीपीएनडीटी और एमटीपी को अधिनियम के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए विभिन्न पहलों और उपायों को सफलतापूर्वक लागू करने के लिए विभिन्न योजनाओं को क्रियान्वित करने का आदेश दिया गया है. जिसके अनुसार राज्य में गर्भधारण पूर्व और प्रसवपूर्व निदान तकनीक (लिंग चयन की रोकथाम) अधिनियम 1994 संशोधन अधिनियम 2003 को प्रभावी ढंग से लागू करने और शिकायतों को दर्ज करने और किसी भी तरह की शिकायतों को दूर करने के लिए एक नई वेबसाइट 15 मार्च को लॉन्च की गई. यदि वेबसाइट पर शिकायत दर्ज कराई जाती है तो उसका नाम गोपनीय रहेगा. शिकायतकर्ता चाहे तो पंजीकरण करा सकता है. शिकायत का निपटारा होने के बाद लिंग जांच करने वाले व्यक्ति के खिलाफ पीसीपीएनडीटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कराया जाएगा. यदि शिकायत पर अमल किया जाता है और कन्या भ्रूण हत्या रोकने में सफलता मिलती है, तो शिकायतकर्ता को सरकार के माध्यम से खबरी पुरस्कार योजना के तहत 1 लाख रु. का इनाम दिया जाएगा. जिला स्वास्थ्य विभाग ने नागरिकों से कहा है कि कहीं भी लिंग निदान हो तो उक्त वेबसाइट पर शिकायत दर्ज कराएं और जन्म लिंगानुपात बढ़ाने में सक्रिय भागीदारी निभाएं.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments